Akshaya Tritiya – Tuesday, 3 May 2022 | अक्षय तृतीया : हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का विशेष धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व | RightWAY.Live

Akshaya Tritiya - Tuesday, 3 May 2022

Akshaya Tritiya – Tuesday, 3 May 2022 | अक्षय तृतीया : हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का विशेष धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व | RightWAY.Live

अक्षय तृतीया का धार्मिक महत्व

वैशाख मास का प्रथम पर्व वैशाख षष्ठ तृतीया है। इसे अक्षय तृतीया भी कहते हैं। यह दिन साढ़े तीन महुरत (मुहूर्त) पलों में से एक है। चैत्र में गौरी की हल्दी को एक महीने तक घर में रखा जाता है। उस हल्दीकुंकु समारोह की अक्षय तृतीया का यह अंतिम दिन है। इस दिन स्नान-दान-गृह; पितरों का जाप और प्रसाद। शास्त्र कहते हैं कि यह अनिश्चित काल तक रहता है। बुधवार और रोहिणी नक्षत्र अक्षय तृतीया को आने के लिए सबसे अच्छा दिन माना जाता है। साथ ही इस दिन हम जो भी दान-पुण्य करते हैं, वह सदा बना रहता है

इस सम्बन्ध में निम्न कथा प्रचलित है – Akshaya Tritiya – Tuesday, 3 May 2022

अक्षय तृतीया की कथा

शकील नाम का एक नगर था। उस नगर में धर्म नाम का एक वाणी रहता था। वह वफादार, सच्चा था। एक दिन एक ब्राह्मण ने उसे अक्षय तृतीया की महानता के बारे में बताया क्योंकि वह नियमित रूप से एक ब्राह्मण भगवान की पूजा कर रहा था। यह सुनकर, वह नदी पर गया, स्नान किया, पूर्वजों और देवताओं को प्रसाद चढ़ाया और घर जाकर ब्राह्मण को दक्षिणा से भरा घाट दिया। इस तरह उन्होंने हर साल नियमित रूप से अपनी गतिविधियों को जारी रखा। कुछ साल बाद भगवान का नाम याद करते हुए उनकी मृत्यु हो गई। अगले जन्म में उन्हें पूर्व जन्म के बल पर राजकीय पद प्राप्त हुआ। फिर भी उन्होंने अपनी दिनचर्या जारी रखी। वह बहुत परोपकारी था। परंतु उनका खजाना कभी खाली नहीं हुआ। कारण यह है कि उन्होंने अक्षय तृतीया को खूब दान दिया था।आज के दिन परशुराम का जन्मदिन है। इस दिन परशुराम का जन्मदिन मनाया जाता है।

What is Akshaya Tritiya and why it is celebrated?

इस दिन गर्मियों में उगाए गए सभी अनाज का दान करना चाहिए। आप जिस चीज से सबसे ज्यादा प्यार करते हैं, उसे जितना हो सके उतना दान करें। मान्यता है कि इस दिन हमारे पूर्वज हमारे घर पानी पीने आते हैं। तो पितरों के नाम पर, वे एक ब्राह्मण को ठंडे पानी से भरा घड़ा दान करते हैं और इस प्रकार श्राद्ध दिवस मनाते हैं।

What happens in Akshaya Tritiya?

कृषि पद्धतियां Akshaya Tritiya – Tuesday, 3 May 2022

अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर किसान अपना काम शुरू करते हैं और जंगल में उगने वाली कंटीली झाड़ियों को काट देते हैं।

What should we do on Akshaya Tritiya?

देश में इस पर्व का विशेष महत्व माना जाता है। गैर-ब्राह्मण इसे ‘अखेती’ कहते हैं। कुछ लोग इस दिन को त्योहार भी मानते हैं।

Akshaya Tritiya - Tuesday, 3 May 2022
Akshaya Tritiya – Tuesday, 3 May 2022

Which God is Akshaya Tritiya?

अक्षय तृतीया पर श्री गणेश, देवी लक्ष्मी, भगवान विष्णु और कुबेर की पूजा की जाती है। इस दिन विष्णु मंदिर के दर्शन करना शुभ होता है।

अक्षय तृतीया, या अखा तीज, एक अत्यंत शुभ दिन है जो वैशाख के हिंदू महीने में अमावस्या (कोई चंद्रमा) के बाद तीसरे दिन पड़ता है। अक्षय तृतीया 2022 तारीख 3 मई है। अक्षय तृतीया का अर्थ है जो कभी कम नहीं होता और तृतीया वैशाख महीने (अप्रैल-मई) में चंद्रमा के वैक्सिंग चरण के तीसरे दिन को संदर्भित करता है। अक्षय तृतीया का मुख्य लाभ यह है कि इस दिन आप जो कुछ भी दान या खरीदते हैं वह कई गुना बढ़ जाएगा।

Read More Festival Articles & Also follow for more updates #rightwaylive

RightWAY.Live | Right News From Right Way | News Updates आज की ताजा खबरें | For more Updated & Latest News, Please Click Here आप #rightwaylive को भी फॉलो कर सकते हैं।

RightWAY Network
Rightway is the Current Affairs & Latest News updates website. Our goal is to provide current affairs & latest news updates by the experts on our website. Our team of always enthusiastic writers provides articles on our site and is available in 3 different languages like English, Hindi, and Marathi.
₹ 15.74 lakh crore of investors’ wealth was wiped out होली की शुभकामनाएं | होली 2022 | Happy Holi (होली ) हिंदी मे 6 True Interesting Facts will Blow your Mind एक महिला के साथ रिलेशनशिप में थे Johnny Depp :Amber Heard आईपीएल (IPL 2022) में सबसे लंबा छक्का कौन मारेगा?